All deleted tweets from politicians

RT @Ahmad_Shakeel: एक नज़रिया यह भी है। ख़ोदा जाने सच्चाई क्या है। कई लोगों की राय है कि ओवैसि साहेब को विस्तार से एक लिखित बयान जारी करना चाहिये। मीडिया के लोग कुछ पूछें तो कह दें कि लिखित ब्यान पढ़ लें। ऐसे बार- बार टीवी पर जाने से सांप्रदायिकता बढ़ती है, और यही मोदी जी और टीवी वाले चाहते हैं। https://t.co/k4lTjO1Fkg

RT @Ahmad_Shakeel: एक नज़रिया यह भी है। ख़ोदा जाने सच्चाई क्या है। कई लोगों की राय है कि ओवैसि साहेब को विस्तार से एक लिखित बयान जारी करना चाहिये। मीडिया के लोग कुछ पूछें तो कह दें कि लिखित ब्यान पढ़ लें। ऐसे बार- बार टीवी पर जाने से सांप्रदायिकता बढ़ती है, और यही मोदी जी और टीवी वाले चाहते हैं। https://t.co/k4lTjO1Fkg

RT @Ahmad_Shakeel: एक नज़रिया यह भी है। ख़ोदा जाने सच्चाई क्या है। कई लोगों की राय है कि ओवैसि साहेब को विस्तार से एक लिखित बयान जारी करना चाहिये। मीडिया के लोग कुछ पूछें तो कह दें कि लिखित ब्यान पढ़ लें। ऐसे बार- बार टीवी पर जाने से सांप्रदायिकता बढ़ती है, और यही मोदी जी और टीवी वाले चाहते हैं। https://t.co/k4lTjO1Fkg

RT @Ahmad_Shakeel: एक नज़रिया यह भी है। ख़ोदा जाने सच्चाई क्या है। कई लोगों की राय है कि ओवैसि साहेब को विस्तार से एक लिखित बयान जारी करना चाहिये। मीडिया के लोग कुछ पूछें तो कह दें कि लिखित ब्यान पढ़ लें। ऐसे बार- बार टीवी पर जाने से सांप्रदायिकता बढ़ती है, और यही मोदी जी और टीवी वाले चाहते हैं। https://t.co/k4lTjO1Fkg

RT @Ahmad_Shakeel: एक नज़रिया यह भी है। ख़ोदा जाने सच्चाई क्या है। कई लोगों की राय है कि ओवैसि साहेब को विस्तार से एक लिखित बयान जारी करना चाहिये। मीडिया के लोग कुछ पूछें तो कह दें कि लिखित ब्यान पढ़ लें। ऐसे बार- बार टीवी पर जाने से सांप्रदायिकता बढ़ती है, और यही मोदी जी और टीवी वाले चाहते हैं। https://t.co/k4lTjO1Fkg